कोरोना के समय सबसे ज्यादा मददगार सांसदों के लिस्ट में शामिल है राहुल गाँधी का भी नाम, वायनाड की जनता का रिएक्शन भी है बहुत अच्छा

हम अक्सर बात करते हैं कि नेता जी कोई भी काम नहीं करते. मगर नेताओं के द्वारा किए गए कामों को भी हमे बिल्कुल नज़र अंदाज नहीं करना चाहिए. भारत सरकार की एजेंसी Governeye नाम की एजेंसी ने इस पर सर्वे किया है. सरकार की तरफ से कराए गए सर्वे में कांग्रेस नेता राहुल गाँधी का भी नाम है जो वर्त्तमान में केरल के वायनाड लोकसभा सीट से निर्वाचित हुए हैं. राहुल गाँधी इस टॉप थ्री नेताओं में शामिल हैं. राहुल गाँधी ने अपने क्षेत्र के लोगों को लॉक डाउन के दौरान भरपूर सहयोग मिला, क्षेत्र की जनता भी ये बात मानती है. क्षेत्र की जनता राहुल गाँधी द्वारा किये गए कामों से भी काफ़ी ख़ुश है.

फाइल फोटो

किये गए सर्वे में लगभग 33 लाख लोगों से राय लिया गया जिसके बाद 25 सांसदों के नामों का चयन किया गया. इन 25 सांसदों के क्षेत्र में फिर सर्वे करवाया गया, जिसके बाद नतीजे जारी किये गए. सर्वे 1 अक्टूबर से शुरू किया गया था. राहुल गाँधी को लगभग 40 हज़ार लोगों का मत मिला. राहुल के संसदीय क्षेत्र के लोगों ने भी राहुल गाँधी द्वारा किए गए कामों के लिए उनकी तारीफ़ की. उनके क्षेत्र के लोगो के मुताबिक राहुल गाँधी ने कोरोना को ध्यान में रखते हुए शुरुवात से हीं जिला मुख्यालय के साथ तालमेल बैठा कर काम करना शुरू कर दिया था. कोरोना के रोकथाम के लिए भी समय पर राहुल गाँधी ने अपने क्षेत्र में लोगों के बिच मास्क, सैनीटाईज़र जैसी जरुरी चीजों का वितरण किया.

फाइल फोटो

लॉक डाउन के दौरान जनता के ऊपर राहुल गाँधी ने पूरा ध्यान दिया. राहुल गाँधी ने ये भी सुनिश्चित किया कि किसी भी व्यक्ति को भूखे सोने की नौबत न आए. राहुल गाँधी ने क्षेत्र में लोगों को अनाज भी बटवाया. इसके अलावे कोरोना के बढ़ते मामलों पर भी राहुल गाँधी ने अपनी पैनी नज़र बनाए रखी. क्षेत्र के छात्रों के लिए भी राहुल गाँधी ने ख़ूब काम किया. छात्रों की पढ़ाई जारी रहे इसके लिए कई हज़ार LED टीवी बांटी गई, छात्रों को टेबलेट्स भी बाटें गए ताकि वो ऑनलाइन अछे से अपनी पढ़ाई कर सकें. राहुल गाँधी ने इस दौरान भी केरल में बड़े पैमाने पर मनाई जाने वाली ओणम में क्षेत्र की महिलाओं को तोहफा दिया. राहुल गाँधी ने क्षेत्र की नर्सों को और आशा कार्यकर्ताओं को ओणम पर साड़ियाँ भेंट की.

फाइल फोटो

राहुल गाँधी कोरोना काल में सबसे ज्यादा दूरदर्शी नज़र आयें. बिमारी की गंभीरता को पहचानते हुए राहुल गाँधी ने सही समय पर सही फैसले लिए. राहुल गाँधी ने भारत सरकार को भी कोरोना को गंभीरता से लेने की हिदायत दी थी. राहुल गाँधी जानते थें की ये बिमारी कितनी खतरनाक है और इसके कितने बुरे प्रभाव हो सकते हैं, आर्थिक हालातों पर भी राहुल की सूझ बुझ ने वायनाड में लोगों को ख़ूब मदद किया. राहुल गाँधी का ये दूरदर्शी अंदाज उनके क्षेत्र की जनता को ख़ूब भाया. सरकार द्वारा जारी किये गए सर्वे में राहुल गाँधी का नाम ये दर्शाता है कि राहुल गाँधी ने जमींन पर कोरोना को लेकर कितना काम किया था.

फाइल फोटो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: