राजस्थान में कांग्रेस ने बीजेपी को फिर चटाई धूल, निकाय चुनाव में पार्टी के साथ दिखा भाजपा का कोर वोटर

राजस्थान में 2 महीने पहले चले सियासी ड्रामे के बावजूद कांग्रेस सरकार बरकरार रही. बीजेपी की मंशा मध्य प्रदेश वाली स्थिति दोहराने की थी मगर स्थानीय नेताओं की जुगलबंदी और राष्ट्रिय नेतृत्व की सुझबुझ से कांग्रेस ने अपने नेता को पार्टी छोड़ जाने से और सरकार को भी गिर जाने से बचा लिया. अभी बीजेपी उस सदमे से भी राजस्थान में नहीं उबार पाई थी कि निकाय चुनाव के आए नतीजों ने भी बीजेपी को चिंता में डाल दिया है की कहीं उनका शहरी कोर वोटर कांग्रेस के तरफ़ शिफ्ट तो नहीं हो गया है. हालाँकि अभी तक किसी भी स्थानीय वरिष्ठ नेता ने इस बात का जिक्र नहीं किया है मगर जानकार मानते हैं की बीजेपी नेताओं के मन में ये बातें जरुर हैं.

File Photo

निकाय चुनावों में अक्सर बीजेपी कांग्रेस से आगे नज़र आती है. इसके पीछे का कारण जानकार ये बताते हैं कि शहरी मतदाता बीजेपी का कोर वोटर है और ये उन्हें हीं वोट देतें हैं. क्यूंकि शहरों में निकायों के लिए होने वाले चुनाव में मतदाता अधिकतर शहरी क्षेत्र के होतें हैं, इसलिए इन चुनावों में बीजेपी का हीं पलड़ा भारी नज़र आता है. मगर राजस्थान में सत्ता में बैठी कांग्रेस ने बीजेपी को 2 महीनों के भीतर दूसरी दफ्फा चौंका दिया है. कांग्रेस अध्यक्ष ने जीत का श्रेय कार्यकर्ताओं को देते हुए कहा है कि कांग्रेस जनता के भरोसे पर खड़े उतरेगी.

File Photo

6 निकायों के चुनाव में कांग्रेस पार्टी ने सीधे सीधे 2 निकायों पर बड़ी जीत दर्ज की है और बीजेपी ने भी 2 निकायों पर कब्ज़ा जमा लिया है. मगर 2 निकायों के लिए किसी भी पार्टी के पास स्पस्ट बहुमत नहीं है मगर कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द डोतासरा ने प्रेस कांफ्रेंस में ये दावा किया है कि बाकी के दो निकायों में भी कांग्रेस स्वंत्र उम्मीदवारों के समर्थन के बलबूते बोर्ड का गठन करने जा रही है. प्रेस कांफ्रेंस में नतीजों का जिक्र करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि शहरी मतदाताओं ने भी कांग्रेस पार्टी में अपना भरोसा जताया है, शहरी क्षेत्र में मिले इस बढ़त को पार्टी आगे भी बनाए रखेगी.

Google Image

जोधपुर नार्थ और कोटा नार्थ में कांग्रेस को सीधे तौर पर बहुमत मिला है, वहीं जयपुर ग्रेटर और जोधपुर साउथ में बीजेपी को बढ़त मिली है मगर जयपुर हैरिटेज और कोटा साउथ में किसी को भी स्पस्ट बहुमत नहीं मिला है. हालाँकि डोतासरा ये दावा कर रहें हैं की स्वंतंत्र उम्मीदवार कांग्रेस के विचारधारा के हैं और वो कारपोरेशन के लिए कांग्रेस का समर्थन करेंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: