बिहार चुनाव गपसप : इस तरह बिहार दिखा सकता है देश को नयी राह ?

बिहार में बिहार था पिछले बार. मगर इस बार ये बहार न बिहार में है और न हीं नितीश कुमार की सरकार में. सत्ता में 15 साल रहने वाले नितीश कुमार को अबकी कड़ी चुनौती मिल रही है. ये चुनौती उनको अपनी हीं सरकार में उपमुख्यमंत्री रह चुके तेजस्वी यादव से मिल रही है. तेजस्वी राजद के नेता हैं, लालू यादव के बेटे भी हैं, तेजस्वी यादव ने नितीश कुमार को राजनीतिक मैदान पर कड़ी चुनौती दी है. नितीश के सामने युवा तेजस्वी की हुंकार ऐसी है कि दिल्ली तक की सत्ता हिल उठी है. मगर सवाल वहीं है कि क्या बिहार नया राह दिखायेगा देश को?

फाइल फोटो

ये सवाल इस लिए क्यूंकि बिहार में अबकी रोजगार की बात हो रही है, स्वास्थ की बात हो रही है, सड़क सुरक्षा और विकास की बात हो रही है. कई चुनावों से ये मुद्दे गायब हो जाते थें. धर्म जात और राष्ट्रवाद के नाम पर देश के कई राज्यों में चुनाव हुए है. हालाँकि बिहार में भी कुछ नेता इसे मुद्दा बनाने की फिराक में हैं मगर तेजस्वी यादव ने तय हीं कर रखा है कि मुद्दा है तो बस रोजगार.

फाइल फोटो

अगर बिहार इस बार रोजगार को मुद्दा मानकर वोट करती है और मौजूदा सरकार को उखाड़ फेकती है तो बिहार देश को एक नई राह दिखा देगा. वो राह जो विकास की है, जहाँ विकास राष्ट्रवाद के मुद्दे से बड़ा है और रोजगार धर्म जात के मुद्दे से बड़ा है. बिहार में अगर रोजगार, स्वास्थ सुरक्षा और विकास का ये प्रयोग सफल रहा तो पूरे देश में बिहार एक नया सन्देश देगा. ये राजनीतिक सन्देश कई मायनों में बिहार की दशा बदल देगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: